‘बाप जी’ भोजपुरी फिल्म रिव्यु

‘बाप जी’ भोजपुरी फिल्म रिव्यु

बाप जी के रौब का दबदबा है। घर मे भी और बाहर भी । ज़रूरत और शौक इन दोनों के बीच तड़फड़ाता हुआ बाप जी को तब सदमा लगता है जब उसका जवान लड़का उसके मौज-मस्ती के बीच मे दीवार बनके खड़ा…

Lagal Raha BATASHA

Lagal Raha BATASHA

सारी दुनिया एक मंच है, नर-नारी सब अभिनेता सात अवस्थाएं जीवन की, सात अंकों के नाटक में अपना-अपना खेल दिखाकर हर इनसान चला जाता। : विलियम शेक्सपियर There are numerous movies made in a year. Some of them do well but mostly…

बलात्कारियों का ज़ल्लाद बन आ गया सनकी दरोगा

बलात्कारियों का ज़ल्लाद बन आ गया सनकी दरोगा

फूहड़पन व अश्लीलता का दंश झेल रहे भोजपुरी सिनेमा जिसका एक गौरवशाली अतीत रहा है पुनः उसी राह पर निकल पडा है जिसकी आधुनिक समाज कई वर्षों से प्रतीक्षा में था. निरहुआ की बॉर्डर, खेसारी की डमरू, पवन सिंह की मां तुझे…